UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022: मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना Chief Minister Abhyudaya Yojana

Table of Contents

Introduction of UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना 2022 | अभ्युदय योजना नि:शुल्क कोचिंग पंजीकरण | Chief Minister Abhyudaya Yojana 2022 | Abhyudaya Yojana Free Coaching Registration | Mukhyamantri Abhyudaya Yojana Apply | नि:शुल्क कोचिंग रजिस्ट्रेशन | मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना आवेदन फॉर्म | मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना रजिस्ट्रेशन

देश भर के छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग लेने के लिए अलग-अलग जिलों और राज्यों में जाना पड़ता है। ऐसे कई छात्र हैं, जिन्हें दूसरे जिलों में रहकर शिक्षण प्राप्त करने के लिए पैसे नहीं मिल रहे हैं।

ऐसे सभी छात्रों के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना शुरू की गई है। UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana के माध्यम से देश के छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए नि:शुल्क कोचिंग प्रदान की जाती है। मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत राज्य के छात्रों को उनके संबंधित जिलों में स्थिति विशेषज्ञों के माध्यम से यह कोचिंग दी जाती है।

इस लेख में आपको UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022 की पूरी जानकारी दी जाएगी। इस लेख का विश्लेषण करके आप इस योजना के तहत पंजीकरण करने की विधि से अवगत हो सकेंगे। इसके अलावा आपको इस योजना के बारे में अलग-अलग जानकारी भी दी जाएगी।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022

उत्तर प्रदेश के स्थापना दिवस पर, उत्तर प्रदेश सरकार ने IAS, IPS, PCS, NDS, CDS, NEET और JEE जैसे आक्रामक मूल्यांकन के लिए UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana शुरू की है। इस योजना के तहत ऐसे सभी छात्रों को नि:शुल्क कोचिंग प्रदान की जाएगी जो इन परीक्षाओं के लिए तैयारी करना चाहते हैं लेकिन अपनी आर्थिक स्थिति के कारण ऐसा करने में असमर्थ हैं।

इस योजना के तहत संभाग स्तर पर छात्रों के लिए पाठ्यक्रम और प्रश्न बैंक भी उपलब्ध कराया जाएगा। UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana का क्रियान्वयन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की देखरेख में किया जाएगा। इस योजना के तहत पाठ बसंत पंचमी के दिन से शुरू होंगे। इस योजना के तहत कॉलेज के छात्रों को ऑनलाइन फाइंड आउट मटीरियल के साथ ऑफलाइन ट्रेनिंग भी दी जाएगी।

अंतिम 57 जिलों में भी UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana संचालित की जाएगी

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से उन सभी छात्रों के लिए UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana शुरू की गई है, जो आर्थिक तंगी के कारण प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में असमर्थ हैं। ऐसे सभी छात्रों को नि:शुल्क शिक्षण प्रदान किया जाता है। यह कोचिंग छात्रों को उनके ही जिले में दी जाती है। उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से अंतिम 57 जिलों में अभ्युदय योजना शुरू की जाएगी।

जिसके लिए सरकार की ओर से 100 दिन का एक्शन प्लान तैयार किया गया है। इस योजना के तहत अब संभाग मुख्यालय के बजाय हर जिले में प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाएगी। इस योजना के माध्यम से किशोरों को शिक्षित करने के लिए विषय पेशेवरों को नियुक्त किया गया है। इसके अलावा, छात्रों को पाठ्यक्रम और प्रश्न पत्र का प्रारूप भी हाथों पर बनाया जाता है। इसके अलावा छात्रों को ऑनलाइन स्टडी फैब्रिक भी हाथों पर बनाया जाता है।

कोचिंग Online और Offline दोनों माध्यमों से हासिल की जा सकती है

आगामी सौ दिनों में उत्तर प्रदेश सरकार जिले में आक्रामक परीक्षाओं के लिए नि:शुल्क शिक्षण की सुविधा प्रदान करेगी। यह सुविधा UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana के तहत काम आएगी। यह योजना उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में पहले से ही संचालित की जा रही थी। लेकिन अब यह योजना संभाग के विभिन्न जिलों में भी शुरू की जाएगी।

अभ्युदय योजना के तहत, कॉलेज के छात्र ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों से शिक्षण प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा पिछड़ा वर्ग के लिए आजमगढ़ में अंबेडकर छात्रावास का आयोजन किया जाएगा। उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से गरीबों के लिए चलाई जा रही कुछ योजनाओं से कहीं ज्यादा बेहतरी के प्रयास किए जाएंगे। ताकि देश का हर नागरिक मजबूत और आत्मनिर्भर बनकर उभर सके। इन योजनाओं के लागू होने से देश के नागरिकों की रहने की स्थिति में भी इजाफा होगा।

Read more – Up Ration Card List 2022:

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022 की मुख्य विशेषताएं

योजना का नाम मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना
शुरुआत किसने कीउत्तर प्रदेश सरकार
लाभार्थी उत्तर प्रदेश के छात्र
उद्देश्य प्रतियोगिताओं के लिए निःशुल्क शिक्षण उपलब्ध कराना।
आधिकारिक इंटरनेट साइट http://abhyuday.up.gov.in/
वर्ष 2022

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana सत्र 2021-22 के लिए लखनऊ में शुरू होंगी कक्षाएं

आक्रामक परीक्षाओं में प्रशिक्षण देने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना शुरू की गई थी। इस योजना के प्रति कॉलेज के छात्रों की रुचि बढ़ रही है। इसे ध्यान में रखते हुए सत्र 2021-22 में सिविल सेवा, एनडीए और जेईई कोचिंग की परीक्षाओं में पिछले सत्र के आंकड़ों की तुलना में अधिक छात्रों का चयन किया गया है |

सभी चयनित कॉलेज के छात्रों को कक्षाएं शुरू होने से पहले पंजीकृत किया जाएगा। यह पंजीकरण लखनऊ विश्वविद्यालय के ओएनजीसी केंद्र के माध्यम से किया जाएगा। प्रशासन की ओर से अगले सप्ताह से पठन-पाठन शुरू करने की तैयारी की जा रही है। इस साल की आक्रामक परीक्षाओं की तैयारी के लिए एक बार यह परीक्षा अक्टूबर 2021 में आयोजित की गई थी। इन जाँचों के परिणाम प्रशासन द्वारा शुरू किए गए हैं।

लखनऊ में करीब 5000 छात्रों का हुआ चयन

यूपीएससी के लिए लखनऊ संभाग में 4089 अभ्यर्थी सफल हुए हैं। पिछले साल यह रेंज 3361 हुआ करती थी। यह जानकारी समन्वयक नितेश श्रीवास्तव के सहयोग से दी गई है। जिसमें से 1900 छात्रों के माध्यम से फॉर्म जमा किए गए थे और 1200 छात्रों ने पढ़ाई की थी। नीट में 633, जेईई में 239 और एनडीए की तैयारी में 492 छात्र सफल हुए हैं।

इन सभी कॉलेज के छात्रों का 27 नवंबर 2021 का उपयोग कर पंजीकरण किया जाएगा। जिसके बाद काउंसलिंग प्रक्रिया शुरू होगी। प्रशिक्षण शुरू करने का एजेंडा भी जल्द जारी किया जाएगा। पहले एनडीए की कक्षाएं सरोजिनी नगर में होती थीं लेकिन अब एनईईटी और जेईई के साथ एनडीए और सीडीएस की कक्षाएं भी आईआईटी, लखनऊ में कराई जाएंगी।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022 का उद्देश्य

{UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana} का प्रमुख उद्देश्य आईएएस, आईपीएस, पीसीएस, एनडीए, सीडीएस, एनईईटी जैसी प्रतियोगिताओं के लिए कॉलेज के छात्रों को मुफ्त शिक्षण देना है। इस योजना के माध्यम से उन सभी छात्रों को जो भयानक आर्थिक स्थिति के कारण शिक्षण प्राप्त करने में असमर्थ हैं, उन सभी छात्रों को निःशुल्क कोचिंग प्रदान की जाएगी।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022 के तहत शिक्षण प्राप्त करने के लिए छात्रों को अब किसी अन्य राज्य में जाने की आवश्यकता नहीं होगी। वह अपने राज्य और अपने जिले से अध्यापन प्राप्त कर सकता है। इस योजना के माध्यम से देश के होनहार छात्रों को आगे बढ़ने का मौका मिलेगा और वे अच्छी कोचिंग प्राप्त कर परीक्षा में बैठने में सक्षम होंगे।

आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं 2022 के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू

आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे सिविल सेवा, राज्य सिविल सेवा परीक्षा 2022, एनईईटी/जेईई और एनडीए/सीडीएस 2022 से 20 अक्टूबर 2021 तक एक साथ रखने के लिए UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana के तहत मुफ्त शिक्षण पंजीकृत किया जाएगा।

पंजीकरण प्रक्रिया के बाद, एक प्रवेश परीक्षा होगी दाखिले के लिए किया गया। जिसमें जेईई परीक्षा 21 अक्टूबर, एनईईटी परीक्षा 22 अक्टूबर, एनडीए/सीडीएस परीक्षा 25 अक्टूबर और सिविल सेवा/राज्य सिविल सेवा परीक्षा 26 अक्टूबर को होगी। ये परीक्षाएं दोपहर 2 बजे से 3:30 बजे तक होंगी। जिसका विस्तार 29 अक्टूबर 2021 को इंटरनेट साइट पर प्रकाशित किया जाएगा। शिक्षण सत्र पंद्रह नवंबर 2021 से शुरू किया जाएगा।

इस योजना के तहत, प्रत्येक ऑनलाइन और ऑफलाइन कोचिंग के लिए उपयोग किया जा सकता है। नवंबर माह में यह योजना गाजियाबाद जिले में भी शुरू की जाएगी। इसके अलावा इस योजना के लिए आयुक्त के माध्यम से 15 अक्टूबर शाम 4:00 बजे तक प्रेस वार्ता भी की जाएगी। इस योजना के माध्यम से युवाओं की तैयारी के लिए प्रत्येक संभाग मुख्यालय पर कोचिंग संस्थान चलाए जाते हैं।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022 के तहत पढ़ाने वाले छात्रों से हुई परीक्षा

संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा 2020 की परीक्षा में मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना में नामांकित 3 छात्रों ने परीक्षा को पीछे छोड़ दिया है। इन कॉलेज के छात्रों को तीन महीने के लिए योजना के तहत नामांकित किया गया था। मेधावी छात्रों को नि:शुल्क कोचिंग देने के लक्ष्य से यह योजना शुरू की गई है।

यह योजना 15 फरवरी 2021 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा शुरू की गई थी। जेईई की परीक्षा कुछ अन्य छात्रों के माध्यम से भी पास हुई है। जेईई के अगले बैच में प्रवेश के लिए परीक्षा तीसरे अक्टूबर 2021 को होने जा रही है। यह आंकड़े आयुक्त लखनऊ और अभ्युदय योजना के नोडल अधिकारी रंजन कुमार के माध्यम से उपलब्ध कराए गए हैं।

Read also – Uttar Pradesh Free Boring Scheme

कोचिंग के नए बैच के लिए होगी प्रवेश परीक्षा

यूपीएससी प्रीलिम्स की कोचिंग के लिए प्रवेश परीक्षा भी 10 अक्टूबर 2020 को आयोजित की जाएगी। इस योजना के माध्यम से यूपी सरकार के माध्यम से मुफ्त शिक्षा की आपूर्ति की जाती है। ताकि काफी संख्या में आक्रामक परीक्षाओं में कॉलेज के छात्रों की बड़ी भागीदारी सुनिश्चित की जा सके। 5000 से अधिक छात्रों ने NEET, CDS, JEE, NDA और सिविल सेवा चेक के लिए ऑनलाइन मोड और 5000 से अधिक छात्रों ने ऑफलाइन मोड के माध्यम से तैयारी की है।

चयनित छात्रों को राज्य सरकार के माध्यम से टैबलेट भी उपलब्ध कराया जाएगा। ताकि उन्हें परीक्षा की तैयारी के लिए डिजिटल स्रोतों में प्रवेश का अधिकार मिल सके।UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana के माध्यम से लगभग 9640 गोलियां वितरित की जाएंगी। इस योजना के संचालन के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से कोचिंग सेंटर भी स्थापित किए गए हैं। पहले चरण में ये कोचिंग सुविधाएं संभाग स्तर पर लगाई गई थीं। बाद के चरण में इन शिक्षण सुविधाओं को जिला स्तर पर जोड़ा जाएगा।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022 यूपीटीईटी फ्री कोचिंग

इस योजना के तहत यूपीटीईटी 2022 की तैयारी कर रहे छात्रों को भी मुफ्त प्रशिक्षण और मार्गदर्शन दिया जाएगा। उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा परीक्षा के लिए व्यावसायिक अधिसूचना मई 2021 में शाखा द्वारा जारी होने की उम्मीद है। इस परीक्षा के लिए, राज्य के सभी जिला शिक्षा और कोचिंग संस्थानों में मुफ्त शिक्षण की व्यवस्था की जाएगी। ऑफलाइन मोड में 15 अप्रैल 2021 से फ्री टीचिंग शुरू होगी। अप्रैल 2019 में लगभग 16 लाख छात्रों ने परीक्षा के लिए पंजीकरण कराया था। इस बार भी इतनी ही संख्या में छात्रों के पंजीकरण की संभावना है।

यूपीटीईटी नि:शुल्क कोचिंग के निर्देश जारी

अभ्युदय योजना के तहत यूपीटीईटी की तैयारी करने वाले छात्रों को 15 अप्रैल 2021 से जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान के माध्यम से ऑफलाइन मोड में नि:शुल्क कोचिंग शुरू की जाएगी। इस योजना के माध्यम से प्रदान किया गया। यदि प्रशिक्षण ऑफलाइन मोड के माध्यम से किया जाता है तो एक सौ बीस कॉलेज के छात्र एक बैच में बैठेंगे। कक्षाओं के वीडियो भी यूट्यूब चैनल पर अपलोड किए जाएंगे।

यदि छात्रों को किसी भी प्रकार का संदेह है, तो निर्यात का उपयोग करके उस संदेह का समाधान किया जाएगा। इन कक्षाओं के माध्यम से बीटीसी और टीईटी की तैयारी करने वाले छात्रों को भी फायदा होगा। यदि आप अतिरिक्त रूप से इस योजना के तहत निःशुल्क कोचिंग प्राप्त करना चुनते हैं, तो इस योजना के तहत जल्द से जल्द पालन करें।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022 का लाभ अब अति पिछड़ा वर्ग को मिलेगा

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य यह था कि उत्तर प्रदेश के छात्रों को आक्रामक परीक्षाओं के लिए शिक्षण के लिए किसी अन्य राज्य में जाने की आवश्यकता नहीं है और सभी छात्रों को मुफ्त शिक्षण प्रदान किया जा सकता है। इस योजना के तहत अति पिछड़ा प्रशिक्षण वाले छात्रों को भी शामिल किया जाएगा।

बाबा कीनाराम मठ, रामगढ़ के संयोजक अजीत सिंह ने पिछड़े वर्ग के छात्रों को आक्रामक परीक्षाओं की शिक्षा देने के लिए रामगढ़ जिले में UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana शुरू की है। पिछड़ा वर्ग के कॉलेज छात्रों को प्रदान करने के लिए सांसदों के माध्यम से इस योजना पर भी काफी विचार किया जा रहा है। समन्वयक का प्रयोग कर यह भी बताया कि जिले में मेधावी छात्रों की कोई कमी नहीं है। अगर उन्हें उचित निर्देश और कोचिंग मिले तो वे सफल हो सकते हैं।

इस योजना के तहत छात्रों को स्वयं IAS, IPS, PCS अधिकारियों की सहायता से मार्गदर्शन किया जाएगा। जिससे छात्रों की सही परीक्षा हो सके। अब उत्तर प्रदेश के पिछड़ा वर्ग के छात्र भी आक्रामक परीक्षाओं के लिए नि:शुल्क शिक्षण प्राप्त कर सकेंगे।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022 का दूसरा चरण

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना का पहला चरण प्रभावी ढंग से पूरा हो गया है। अब इस योजना का दूसरा चरण शुरू होने जा रहा है। इस 2डी सेगमेंट में चुने गए सभी लाभार्थियों की सूची जारी कर दी गई है। इस सूची में विंध्याचल मंडल के 669 विद्यार्थियों का चयन किया गया है। यह फैसला 6 मार्च को हुई ऑनलाइन परीक्षा के दौरान किया गया है।

इसके तहत चयनित छात्रों की सूची की योजना जुबली इंका कोचिंग सेंटर में काम आती है। यह कोचिंग सेंटर सिविल लाइन रोड पर स्थित है। वे सभी कॉलेज के छात्र जिन्होंने इस परीक्षा को पास किया है, वे सभी आक्रामक परीक्षाओं के लिए मुफ्त शिक्षण प्राप्त करने की स्थिति में होंगे।

इस योजना के प्रथम चरण में चयनित 200 विद्यार्थी ऑनलाइन एवं ऑफलाइन माध्यम से प्रशिक्षण ले रहे हैं। ये सभी कॉलेज के छात्र-छात्राएं जुबली कॉलेज में बने कोर में प्रतिदिन 3:00 से 6:15 बजे तक अध्यापन लेते हैं।
इस योजना से राज्य के कई छात्र-छात्राएं लाभान्वित हो रहे हैं। इस योजना के तहत सोमवार से शुक्रवार तक छात्रों की संख्या।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022 पंजीकरण की शेष तिथि में वृद्धि

इस योजना के तहत अब पोर्टल पर पंजीकरण की तिथि बढ़ा दी गई है। छात्रों के माध्यम से 28 फरवरी 2021 को रात 8:00 बजे तक पंजीकरण किया जा सकता है। इसके बाद मार्च के पहले सप्ताह में परीक्षाएं कराई जाएंगी। ये परीक्षाएं 5 और 6 मार्च को होंगी। UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana के तहत अब तक 500000 से अधिक छात्र-छात्राएं आवेदन कर चुके हैं।

इन सभी कॉलेज के छात्रों के लिए कक्षाएं शुरू हो गई हैं। इनमें से 500,000 से अधिक छात्रों को ऑफलाइन कक्षाओं के लिए चुना गया है। बाकी 4.30 लाख प्रतियोगी भी परीक्षा में भाग ले सकते हैं। ये सभी छात्र जिन्होंने ऑनलाइन प्रशिक्षण के लिए पंजीकरण कराया है, वे भी शारीरिक कक्षाओं में प्रवेश लेने के लिए प्रवेश परीक्षा में शामिल हो सकते हैं।

अभ्युदय योजना टेबलेट वितरण

उत्तर प्रदेश का प्राइस रेंज 22 फरवरी 2022 को पेश किया गया है। इस बजट के तहत अभ्युदय योजना के 1000000 युवाओं को मुफ्त गोलियां देने की शुरुआत की गई है। टैबलेट के वितरण के लिए अधिकारियों के माध्यम से पात्रता शर्तें जल्द ही जारी की जाएंगी।

इस टैबलेट के जरिए छात्र पढ़ाई के लिए फैब्रिक हासिल कर सकेंगे। कोचिंग में नामांकित छात्रों को एक गोली दी जाएगी। यह प्रवेश उन्हें प्रवेश परीक्षा के माध्यम से दिया जाएगा। कोचिंग के लिए चयनित होने के बाद पात्र मेधावी छात्रों को कैप्सूल देने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे। जिसके आधार पर उन्हें एक टैबलेट दिया जाएगा।

टैबलेट छात्रों को परीक्षा की तैयारी में मदद करेगा। इस टैबलेट के माध्यम से छात्रों को इंटरनेट की सुविधा मिलेगी जिससे वे अपनी परीक्षा से संबंधित डेटा हासिल करने की स्थिति में होंगे। इस टैबलेट के जरिए ट्रेनिंग लेना भी कम मुश्किल हो जाएगा।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana साक्षात्कार कक्षाएं

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana के तहत विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए सभी संभागों में साक्षात्कार निर्देश के लिए आवेदन शुरू कर दिए गए हैं.
यूपीएससी, जेईई, एनईईटी और एनडीए/सीडीएस के लिए साक्षात्कार निर्देशों के लिए कार्य 22 फरवरी को दोपहर 2:00 बजे से 28 फरवरी को रात 8:00 बजे तक खुले हैं।
इसके बाद आवेदन स्वीकार नहीं किए जाएंगे।
वे सभी कॉलेज के छात्र जो पहले से ही साक्षात्कार के निर्देश दे रहे हैं, वे अब आवेदन नहीं करना चाहते हैं।
ये सभी छात्र जिन्होंने 28 फरवरी से पहले पंजीकरण कराया है या पहले से ऑनलाइन प्रशिक्षण में पंजीकृत हैं, वे भी यह परीक्षा दे सकते हैं।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana साक्षात्कार कक्षा अनुसूची

एनडीए/सीडीएस 5 मार्च (दोपहर 12 बजे से दोपहर 1 बजे तक)
जेईई 5 मार्च (दोपहर 2 बजे से दोपहर 3 बजे)
नीट 5 मार्च (शाम 5 बजे शाम)
यूपीएससी 6 मार्च (दोपहर से दोपहर 3 बजे)

Mukhyamantri Abhyudaya Yojana एक दिन में एक हजार ग्राहक
अभ्युदय योजना उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से नि:शुल्क कोचिंग देने के लिए शुरू की जाती थी। इस योजना को न केवल ऑफलाइन बल्कि ऑनलाइन भी लोकप्रियता मिल रही है। एक ही दिन में जेईई और एनईईटी की कोचिंग देने के लिए शुरू किए गए यूट्यूब चैनल को एक हजार से ज्यादा छात्रों ने सब्सक्राइब किया है।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana के तहत एनडीए के छात्रों के लिए ऑनलाइन वेब पेज भी शुरू किया गया है। नीट और जेईई की परीक्षाएं यूट्यूब के जरिए दी जा रही हैं। जिसमें अब तक 1500 से ज्यादा कॉलेज स्टूडेंट्स सब्सक्राइब कर चुके हैं। 1500 में से एक हजार सब्सक्राइबर पहले ही दिन पूरे हो गए और सब्सक्राइबर बूम का प्रचलन अभी भी जारी है। इस सफलता को देखते हुए एनडीए की कोचिंग लेने वाले छात्रों के लिए एक अलग यूट्यूब चैनल बनाया गया है।

इसे भी पड़े – प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना 2022 :

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana की लोकप्रियता आगरा

जेआईसी कोर में UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana के तहत दो पालियों में सुबह 8:30 से 10:00 बजे तक और 3:30 बजे से शाम 5:00 बजे तक कक्षाएं चल रही हैं। इन कक्षाओं में छात्रों को गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, विज्ञान आदि विषय पढ़ाए जा रहे हैं। इस योजना के तहत आगरा में फिलहाल दो केंद्रों पर ऑफलाइन कक्षाओं की आपूर्ति की जा रही है। जो आगरा कॉलेज और शासकीय इंटर कॉलेज है।

आगरा कॉलेज में यूपीएससी और यूपीपीएससी की पढ़ाई कराई जा रही है। शाहजहांगंज स्थित शासकीय इंटर कॉलेज में नीट, एनडीए व सीडीएस का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। आगरा कॉलेज में 250 और सरकारी इंटर कॉलेज में 270 छात्र हैं। यदि कोई छात्र अब पंजीकरण नहीं करा पा रहा है तो भी वह ऑफलाइन कक्षाओं के लिए कोर में पहुंचकर शिक्षण प्राप्त कर सकता है।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana फरवरी अपडेट

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि उत्तर प्रदेश के 71वें स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की शुरुआत की गई थी. इस योजना के तहत कॉलेज के छात्रों को आईएएस, आईपीएस, पीसीएस आदि परीक्षाओं के लिए कोचिंग प्रदान की जाएगी।

यह कोचिंग पूरी तरह से निःशुल्क होगी। इस योजना के तहत वरिष्ठ अधिकारियों के माध्यम से कॉलेज के छात्रों को निर्देश भी दिए जाएंगे। मुख्यमंत्री के माध्यम से घोषणा की गई कि इस योजना के तहत शिक्षण कक्षाएं बसंत पंचमी के दिन से शुरू होंगी। यह शिक्षण जेआईसी, बरेली में सुसज्जित किया जाएगा।

Or

कोचिंग में कमिश्नर के माध्यम से फिजिक्स और डीएम द्वारा इतिहास पढ़ाया जाएगा। इसके साथ ही कई अन्य शीर्ष प्रशासनिक अधिकारियों को भी पढ़ाया जाएगा। माध्यमिक विद्यालयों और निजी कोचिंग के उत्कृष्ट शिक्षा कठिनाई विशेषज्ञ भी छात्रों को शिक्षण प्रदान करेंगे। जेआईसी, बरेली में प्रतिदिन के संकाय समय के बाद कोचिंग कक्षाएं सुसज्जित की जाएंगी।
कोचिंग के लिए भी स्मार्ट ट्रेनिंग का इस्तेमाल किया जाएगा।

सभी छात्रों को प्रश्न बैंक, कपड़े आदि के बारे में ऑनलाइन जानकारी भी उपलब्ध कराई जाएगी। बरेली में शिक्षकों को तैयार करने की जिम्मेदारी जद डॉ प्रताप कुमार को दी गई है. इनके माध्यम से शिक्षकों का पैनल गठित किया जाएगा। इस पैनल में शहर के उत्कृष्ट शिक्षकों को शामिल किया गया है।

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना 2022 के तहत छात्रों का मार्गदर्शन

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana के तहत IAS, IPS और PCS की तैयारी कर रहे छात्रों को न केवल शिक्षण बल्कि शिक्षा भी दी जाएगी। ऑफलाइन कक्षाओं में विभिन्न संभावनाएं छात्रों को जानकारी देंगी। आईएएस, पीसीएस परीक्षा कॉलेज के छात्रों के लिए प्रशिक्षु आईएएस, आईपीएस, आईएफएस (वन सेवा), पीसीएस अधिकारी और एनडीए और सीडीएस छात्रों के लिए सैनिक स्कूल के प्राचार्य मार्गदर्शन प्रदान करेंगे।

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत विषय विशेषज्ञों को अतिथि संकाय भी कहा जाएगा। इस योजना के तहत संभाग स्तर पर परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों को पाठ्यक्रम और परीक्षा पैटर्न के बारे में आंकड़े भी निःशुल्क उपलब्ध कराए जाएंगे। छात्र वैध वेबसाइट पर प्रश्न बैंक का छोटा प्रिंट भी प्राप्त कर सकेंगे। इसके अलावा मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत छात्रों को उच्च स्तरीय शिक्षण संस्थानों की सामग्री भी उपलब्ध कराई जाएगी।

उत्तर प्रदेश प्रशासन एवं प्रबंधन अकादमी को सौंपी गई जिम्मेदारी

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana के तहत कपड़े के बारे में पता लगाने की जिम्मेदारी उत्तर प्रदेश प्रशासन एवं प्रबंधन अकादमी (यूपीएएम) को सौंपी गई है। उपम मंडल स्तर पर कोचिंग सेंटरों के संचालन व पहचान पत्र की भी जांच करेंगे। इस योजना के तहत यदि छात्र ने प्रारंभिक परीक्षा पास कर ली है तो महत्वपूर्ण परीक्षा की तैयारी की जिम्मेदारी भी यूपीएएम को सौंपी गई है। अपम द्वारा इंटरनेट साइट पर प्रश्न बैंक, प्रश्नोत्तरी आदि को भी उपलब्ध कराया जाएगा।

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के माध्यम से अब आप घर बैठे प्रतियोगिता परीक्षाओं की कोचिंग लेने की स्थिति में होंगे। आप इसके लिए कीमत भी नहीं देना चाहेंगे। यूपी मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना 2021 के प्रथम चरण में 18 संभागीय मुख्यालयों को शामिल किया गया है। इन 18 संभागीय मुख्यालयों में अभ्युदय शिक्षण केंद्र शुरू किए जाएंगे। ये कोचिंग सेंटर राज्य के विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में चलाए जाएंगे।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana ई प्लेटफार्म

हर 12 महीने में उत्तर प्रदेश के 4 से 5 लाख छात्र यूपीएससी, विभिन्न राज्य पीएससी, जेईई, एनईईटी और कई अन्य परीक्षाओं में शामिल होते हैं। इनमें से ज्यादातर युवा आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों से आते हैं। ऐसे सभी बच्चों के लिए यह योजना काफी फायदेमंद साबित होगी। संभागीय आयुक्त लखनऊ के अधीन ई-लर्निंग सामग्री सामग्री प्लेटफॉर्म विकसित किया जाएगा। जिसके तहत छात्रों को पढ़ाई का कपड़ा हाथ पर बनाया जाएगा।

इस ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म पर विभिन्न अधिकारी परीक्षा की तैयारी के लिए वीडियो के माध्यम से अपनी यात्रा साझा करेंगे। इस प्लेटफॉर्म पर लाइव पीरियड्स और सेमिनार भी आयोजित किए जाएंगे। इस प्लेटफॉर्म पर छात्रों के प्रश्न भी पूछे जा सकते हैं। मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत छात्र-छात्राएं घर बैठे ही अध्यापन केंद्र पर उपलब्ध रहकर भी अध्यापन प्राप्त करने की स्थिति में होंगे।

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना कार्यान्वयन प्रक्रिया

  • मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की शुरुआत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा
  • उत्तर प्रदेश के कॉलेज छात्रों को आक्रामक परीक्षाओं के लिए शिक्षण प्रदान करने के लिए की गई है।
  • इस योजना के माध्यम से देश के छात्रों को राज्य में ही ऑफलाइन और ऑनलाइन माध्यम से
  • आक्रामक परीक्षाओं के लिए प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।
  • ताकि उन्हें अब किसी दूसरे शहर या राज्य में कोचिंग लेने के लिए न जाना पड़े।
  • मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के माध्यम से अब ये मनुष्य भी शिक्षा प्राप्त करने में सक्षम होंगे
  • जिन्हें अब भयानक आर्थिक स्थिति के कारण शिक्षण नहीं मिलना चाहिए।
  • क्योंकि यह शिक्षण सरकार के माध्यम से नि:शुल्क दिया जाएगा।
  • इस योजना के तहत देश के संतोषजनक स्कूल और यू. एस । राज्य के छात्रों को उपलब्ध कराया जाएगा।
  • युवाओं की तैयारी के लिए प्रत्येक संभाग मुख्यालय पर कोचिंग संस्थान चलाए जाएंगे।
  • इससे उन्हें वर्चुअल माध्यम से भी जोड़ा जाएगा।
  • ताकि उन छात्रों को भी अध्यापन मिल सके जो संभाग मुख्यालय नहीं पहुंच सकते।
  • मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत शुरू किए गए शिक्षण संस्थान तकनीकी सेवाओं से संपन्न होंगे |
  • और इसमें शानदार फैकल्टी भी होंगे।
  • शिक्षण संस्थानों में राज्य के प्रमाणित अधिकारी, आईएएस, आईपीएस, आईएफएस, पीसीएस आदि का प्रयोग कर कोचिंग दी जाएगी।
  • कोचिंग देने में विषय विशेषज्ञ भी शामिल होंगे।
  • क्लीनिकल और इंजीनियरिंग कोचिंग देने के लिए छात्रों को इस विषय से जुड़े प्रशिक्षकों को हाथों हाथ लगाया जाएगा।
  • अब प्रदेश का प्रत्येक छात्र यूपी मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना 2021 के माध्यम से प्रशिक्षण प्राप्त कर सकेगा।
  • ताकि वह अपने उज्ज्वल भविष्य का निर्माण कर सके।
  • अब इस योजना के माध्यम से देश के छात्र भी आत्मनिर्भरता की दिशा में आगे बढ़ेंगे।
  • मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना सांख्यिकी
  • आईएएस अधिकारी 519
  • आईपीएस अधिकारी 456
  • आईएफएस अधिकारी 315
  • वीडियो सेशन 218

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022 के लाभ और विशेषताएं

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से उत्तर प्रदेश के आधार दिवस पर शुरू की जाती थी।
इस योजना के तहत आईएएस, आईपीएस, पीसीएस, एनडीएस, सीडीएस, एनईईटी आदि जैसी आक्रामक परीक्षाओं को एक साथ रखने के लिए मुफ्त शिक्षण प्रदान किया जाएगा।
वे सभी कॉलेज छात्र जो भयानक वित्तीय स्थिति के कारण अब शिक्षण प्राप्त नहीं करना चाहते हैं, उन्हें मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत मुफ्त शिक्षण प्रदान किया जाएगा।
यूपी मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना 2022 के तहत पाठ्यक्रम और प्रश्न बैंक में उपलब्ध कराए जाएंगे।
इस योजना का क्रियान्वयन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की देखरेख में किया जाएगा।
मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत कक्षाएं बसंत पंचमी के दिन से शुरू होंगी।
इस योजना के तहत छात्रों को ऑनलाइन सामग्री के साथ-साथ ऑफलाइन पाठ भी उपलब्ध कराए जाएंगे।
मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत अब छात्रों को न केवल कोचिंग बल्कि निर्देश भी दिया जाएगा। यह प्रशिक्षण विभिन्न अधिकारियों के माध्यम से प्रदान किया जाएगा।

इस योजना के तहत विषय विशेषज्ञों से अतिथि व्याख्यान की भी व्यवस्था की जाएगी।
मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत परीक्षा पैटर्न की जानकारी भी छात्रों को दी जाएगी।
इस योजना के तहत छात्रों को उच्च स्तरीय कोचिंग संस्थानों का स्टडी क्लॉथ भी उपलब्ध कराया जाएगा।
इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश प्रशासन एवं प्रबंधन अकादमी को सामग्री के अध्ययन के प्रबंधन की जिम्मेदारी सौंपी गई है।
छात्रों के प्रारंभिक परीक्षा से आगे निकलने के बाद मुख्य परीक्षा की तैयारी की जिम्मेदारी भी UPAM को सौंपी गई है।
इस योजना के प्रथम खंड में 18 संभागीय मुख्यालयों को शामिल किया गया है।
इस योजना के तहत एक ई-प्लेटफॉर्म भी विकसित किया जाएगा।
ई-प्लेटफॉर्म के माध्यम से छात्रों को ई-कंटेंट उपलब्ध कराया जाएगा। छात्र इस ई-प्लेटफॉर्म के माध्यम से कोचिंग भी प्राप्त कर सकते हैं। छात्र ई-प्लेटफॉर्म पर भी अपने सवाल पूछ सकते हैं।

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत पालन करने के लिए पात्रता और महत्वपूर्ण फाइलें

  • आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • आधार कार्ड
  • राशन पत्रिका
  • जन्म प्रमाणपत्र
  • पासपोर्ट आयाम फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • यूपी अभ्युदय योजना शुरू
  • उन छात्रों को शिक्षण प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना शुरू की गई है
  • जो अपनी आर्थिक स्थिति के कारण आक्रामक परीक्षाओं की कोचिंग नहीं ले पा रहे हैं।
  • यह शिक्षण निश्चय ही निःशुल्क होगा।
  • इस योजना के तहत शासन के सहयोग से पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

यह पंजीकरण पद्धति 10 फरवरी 2021 से शुरू की गई है। मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत कक्षाएं बसंत पंचमी के दिन से शुरू की जाएंगी। इस योजना की शुरुआत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के माध्यम से कोरोना वायरस संक्रमण में किसी न किसी स्तर पर दूसरे राज्यों में फंसे छात्रों को होने वाली समस्याओं को देखते हुए की गई है.
अब छात्रों को मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के माध्यम से परीक्षाओं की कोचिंग लेने के लिए किसी दूसरे राज्य या क्षेत्र में नहीं जाना पड़ेगा। वह अपने क्षेत्र से संतोषजनक शिक्षण प्राप्त करने में सक्षम होगा।
इस योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए शासन द्वारा 6 सदस्यीय राज्य स्तरीय समिति का भी गठन किया गया है।

UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022 के तहत Online करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की विश्वसनीय इंटरनेट साइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने डोमेस्टिक वेब पेज खुल जाएगा। डोमेस्टिक पेज पर आपको Register Now लिंक पर क्लिक करना है।
  • अब आपको परीक्षा का चयन करना है। इसके बाद आपके सामने नामांकन फॉर्म खुल जाएगा।
  • आपको इस संरचना में मांगी गई सभी आवश्यक जानकारी जैसे
  • आपका नाम, टेलीफोन नंबर, ईमेल आईडी, डिवीजन, योग्यता, पता आदि दर्ज करनी होगी।
  • इसके बाद आपको पब्लिश बटन पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने एक नया वेब पेज खुलेगा जिसमें आपको लागू जानकारी में आकर अपने खाते की पुष्टि करनी होगी।
  • इसके बाद आपको वेरीफाई बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस तरह आप मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत आवेदन कर सकेंगे।
  • उपयोगकर्ता लॉगिन प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की प्रतिष्ठित इंटरनेट साइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलेगा।
  • होम पेज पर आपको यूजर के रूप में लॉग इन के लिए हाइपरलिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने एक नया वेब पेज खुलेगा जिसमें आपको अपना यूजर आईडी, पासवर्ड और कैप्चा कोड डालना होगा।
Or
  • अब आपके सामने एप्लीकेशन फॉर्म खुल जाएगा।
  • आपको आवेदन संरचना में पूछे गए सभी महत्वपूर्ण डेटा जैसे आपका नाम, मोबाइल नंबर, पता आदि दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको पोस्ट बटन पर क्लिक करना है।
  • इस तरह आप तैयार कक्षाओं के समाधान के लिए ऑनलाइन परीक्षा की निगरानी कर सकेंगे।
  • अधिकारी लॉगिन प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की वैध वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने डोमेस्टिक वेब पेज खुल जाएगा।
  • डोमेस्टिक पेज पर आपको लॉग इन एस ऑफिसर के लिंक पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपके सामने एक डायलॉग फील्ड खुलेगी जिसमें आपको अपना यूजरनेम या ईमेल आइडेंटिटी और पासवर्ड डालना होगा।
  • अब आपको लॉगिन बटन पर क्लिक करना है।
  • इस तरह आप अधिकारी लॉगिन करने की स्थिति में होंगे।

अनुरोध सत्र की व्यवस्था करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की सम्मानजनक इंटरनेट साइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने डोमेस्टिक पेज खुलेगा।
  • होम पेज पर आपको रिक्वेस्ट सेशन के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुलेगा।
  • इस वेब पेज पर आपको अपनी ई-मेल पहचान और क्वेरी दर्ज करनी होगी।
  • अब आपको पब्लिश ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपके सामने एक नया वेब पेज खुल जाएगा।
  • इस पेज पर आपको पूछी गई जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • अब आपको रिक्वेस्ट ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • इस तरह आप अनुरोध सत्र की व्यवस्था करने में सक्षम होंगे।
  • पैनल चर्चा में शामिल होने की प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की प्रतिष्ठित वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • डोमेस्टिक पेज पर आपको पैनल डिस्कशन के ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपको लॉग इन करना होगा।

Or

  • अब आपके सामने एक नया पेज खुलेगा।
  • इस पेज पर आपको पैनल डिस्कशन के ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • अब आपको मांगी गई जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • इसके बाद आपको पुट अप ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इस तरह आप पैनल डिस्कशन में हिस्सा ले सकेंगे।
  • परामर्श सत्र देखने की प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की कानूनी वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने डोमेस्टिक वेब पेज खुल जाएगा।
  • इसके बाद आपको मेंटरिंग सेशन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुलेगा।
  • इस पेज पर आप अपना लॉगिन क्रेडेंशियल दर्ज करके लॉग इन करना चाहते हैं।
  • अब आपको मांगी गई जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • इसके बाद आपको पुट अप का ऑप्शन डालना होगा।
  • अब आप मेंटरिंग सेशन देख पाएंगे।
  • वेबिनार में शामिल होने की प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की सम्मानजनक इंटरनेट साइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने डोमेस्टिक पेज खुलेगा।
  • होम पेज पर आपको वेबिनार के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुलेगा।
  • इस पेज पर आपको पूछी गई जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • इसके बाद आपको पोस्ट ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इस तरह आप वेबिनार का हिस्सा बन सकेंगे।
  • मुफ्त मास्टरिंग सामग्री प्राप्त करने की प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की प्रतिष्ठित वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने डोमेस्टिक वेब पेज खुल जाएगा।
  • इसके बाद आपको अपनी परीक्षा, चुनौती और पेपर का चयन करना होगा।
  • अब आपको सर्च ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • आपकी स्क्रीन पर फ्री लर्निंग क्लॉथ पॉप अप हो जाएगा।
  • अब आप इसे डाउनलोड कर सकते हैं।

परीक्षा पाठ्यक्रम डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की वैध इंटरनेट साइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको सिलेबस के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने सिलेक्शन खुल जाएगा।
  • संघ लोक सेवा आयोग
  • परीक्षा पाठ्यक्रम डाउनलोड करें
  • भारतीय वन सेवा
  • भारतीय वन सेवा
  • राष्ट्रीय रक्षा सेवा
  • राष्ट्रीय रक्षा सेवा
  • केंद्रीय रक्षा सेवा
  • केंद्रीय रक्षा सेवा
  • यूपी लोक सेवा आयोग
  • यूपी लोक सेवा आयोग
  • आपको अपनी आवश्यकता के अनुसार विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक नया वेब पेज खुलेगा।
  • इस वेब पेज पर आपको डाउनलोड ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • इस तरह आप परीक्षा के लिए पाठ्यक्रम डाउनलोड करने में सक्षम होंगे।
  • अभ्युदय योजना लाइव सत्र देखने की प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की प्रामाणिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको अभ्युदय योजना सत्र लाइव देखने के लिए लॉगिन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने एक डायलॉग फील्ड खुलेगी जिसमें आपको अपना यूजरनेम या ई-मेल आईडी डालना होगा।
  • अब आपको लॉग इन बटन पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपको वॉच लाइव सेशन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप स्टे सेशन देखने में सक्षम होंगे।
  • लोकप्रिय सत्र देखने की प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना की प्रामाणिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने डोमेस्टिक वेब पेज खुल जाएगा।
  • डोमेस्टिक पेज पर आपको पॉपुलर सेशंस के नीचे व्यू ऑल सेशंस के लिंक पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपके सामने एक नया वेब पेज खुल जाएगा।
  • इस पृष्ठ पर सभी प्रसिद्ध अवधियाँ होंगी।
  • आप प्ले बटन पर क्लिक करके प्रसिद्ध कक्षाएं देख सकते हैं।

Read mora info : Up Ration Card List 2022

Praman patra to Click here

Leave a Comment