Pradhan Mantri Vaya Vandana Yojana 2022: प्रधानमंत्री वय वंदना योजना | Application Form

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना | प्रधानमंत्री वय वंदना योजना 2022 | प्रधानमंत्री वय वंदना योजना PDF | प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना लिस्ट 2022 | प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना Online | प्रधानमंत्री वंदना योजना फॉर्म | pm vaya vandana yojana | pm vaya vandana yojana upsc | pm vaya vandana yojana calculator | pm vaya vandana yojana in hindi

PM Vaya Vandana Yojana

PM Vaya Vandana Yojana 2022

{PM Vaya Vandana Yojana (पीएमवीवीवाई) भारत सरकार द्वारा विशेष रूप से 60 वर्ष और उससे अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों के लिए घोषित एक पेंशन योजना है जो 4 मई, 2017 से 31 मार्च, 2020 तक उपलब्ध थी। इस योजना को अब 31 मार्च तक बढ़ा दिया गया है। मार्च, 2023 को 31 मार्च, 2020 से आगे तीन वर्षों की अवधि के लिए।}

PM Vaya Vandana Yojana के लाभ

प्रधान मंत्री वय वंदना योजना (पीएमवीवीवाई) के तहत प्रमुख लाभ निम्नलिखित हैं:

  • योजना शुरू में वर्ष 2020-21 प्रति वर्ष के लिए 7.40% प्रति वर्ष की वापसी की सुनिश्चित दर प्रदान करती है
  • और उसके बाद हर साल रीसेट की जाती है।
  • वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए, योजना 7.40% प्रति वर्ष की सुनिश्चित पेंशन प्रदान करेगी।
  • मासिक देय। पेंशन की यह सुनिश्चित दर 31 मार्च, 2022 तक खरीदी गई |
  • सभी पॉलिसियों के लिए 10 वर्ष की पूर्ण पॉलिसी अवधि के लिए देय होगी।
  • पेंशन प्रत्येक अवधि के अंत में, 10 वर्ष की पॉलिसी अवधि के दौरान, खरीद के समय पेंशनभोगी द्वारा चुनी गई
  • मासिक/त्रैमासिक/अर्धवार्षिक/वार्षिक आवृत्ति के अनुसार देय है।
  • इस योजना को जीएसटी से छूट दी गई है।
  • 10 वर्ष की पॉलिसी अवधि के अंत तक पेंशनभोगी के जीवित रहने पर, अंतिम पेंशन किस्त के साथ खरीद मूल्य देय होगा।
  • 3 पॉलिसी वर्षों के बाद (तरलता की जरूरतों को पूरा करने के लिए) खरीद मूल्य के 75% तक लोन की अनुमति दी जाएगी।
  • लोन ब्याज की वसूली पेंशन की किश्तों से तथा लोन की वसूली दावा राशि से की जाएगी।
  • यह योजना स्वयं या जीवनसाथी की किसी भी गंभीर / लाइलाज बीमारी के इलाज के लिए समय से पहले बाहर निकलने की भी अनुमति देती है।
  • ऐसे समय से पहले बाहर निकलने पर, खरीद मूल्य का 98% वापस कर दिया जाएगा।
  • 10 वर्ष की पॉलिसी अवधि के दौरान पेंशनभोगी की मृत्यु होने पर, लाभार्थी को क्रय मूल्य का भुगतान किया जाएगा।
  • अधिकतम पेंशन की सीमा एक पूरे परिवार के लिए है, परिवार में पेंशनभोगी, उसकी पत्नी/पति और आश्रित शामिल होंगे।
  • गारंटीकृत ब्याज और अर्जित वास्तविक ब्याज और
  • प्रशासन से संबंधित खर्चों के बीच अंतर के कारण होने वाली कमी को भारत सरकार द्वारा सब्सिडी दी जाएगी |
  • और निगम को प्रतिपूर्ति की जाएगी।

Read more – Ration Card Surrender Update 2022:

PM Vaya Vandana Yojana की पात्रता शर्तें और अन्य प्रतिबंध

  • न्यूनतम प्रवेश आयु: 60 वर्ष (पूर्ण)
  • अधिकतम प्रवेश आयु: कोई सीमा नहीं
  • पॉलिसी अवधि : 10 वर्ष
  • निवेश सीमा: 15 लाख रुपये प्रति वरिष्ठ नागरिक
  • न्यूनतम पेंशन:
  • रु. 1,000/- प्रति माह
  • रु. 3,000/- प्रति तिमाही
  • रु. 6,000/- प्रति छमाही
  • रु.12,000/- प्रति वर्ष। निवेश
  • अधिकतम पेंशन:
  • रु. 9,250/- प्रति माह
  • रु. 27,750/- प्रति तिमाही
  • रु. 55,500/- प्रति छमाही
  • रु. 1,11,000/- प्रति वर्ष

Read also – UP Mukhyamantri Abhyudaya Yojana 2022:

अधिकतम पेंशन की अधिकतम सीमा एक परिवार के लिए है यानी इस योजना के तहत एक परिवार को दी जाने वाली सभी नीतियों के तहत पेंशन की कुल राशि अधिकतम पेंशन सीमा से अधिक नहीं होगी। इस उद्देश्य के लिए परिवार में पेंशनभोगी, उसकी पत्नी/पति और आश्रित शामिल होंगे।

इस योजना को भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के माध्यम से ऑफलाइन के साथ-साथ ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है, जिसे इस योजना को संचालित करने का एकमात्र विशेषाधिकार दिया गया है। ऑनलाइन खरीदने के लिए इस लिंक पर जाएं।

पेंशन भुगतान का तरीका

पेंशन भुगतान के तरीके मासिक, त्रैमासिक, अर्ध-वार्षिक और वार्षिक हैं। पेंशन भुगतान एनईएफटी या आधार सक्षम भुगतान प्रणाली के माध्यम से होगा। पेंशन की पहली किश्त खरीद की तारीख से 1 साल, 6 महीने, 3 महीने या 1 महीने के बाद पेंशन भुगतान के तरीके पर निर्भर करती है यानी वार्षिक, अर्धवार्षिक, त्रैमासिक या मासिक।

इसे भी पढ़े – यूपी फ्री लैपटॉप योजना 2022:

समर्पण मूल्य

यह योजना पॉलिसी अवधि के दौरान असाधारण परिस्थितियों में समय से पहले बाहर निकलने की अनुमति देती है जैसे पेंशनभोगी को स्वयं या पति या पत्नी की किसी भी गंभीर/टर्मिनल बीमारी के इलाज के लिए पैसे की आवश्यकता होती है। ऐसे मामलों में देय समर्पण मूल्य खरीद मूल्य का 98% होगा।

PM Vaya Vandana Yojana Loan

3 पॉलिसी वर्ष पूरे होने के बाद लोन सुविधा उपलब्ध है। अधिकतम लोन जो दिया जा सकता है वह खरीद मूल्य का 75% होगा।

लोन राशि के लिए वसूले जाने वाले ब्याज की दर आवधिक अंतराल पर निर्धारित की जाएगी। वित्तीय वर्ष 2016-17 में स्वीकृत लोन के लिए लागू ब्याज दर 10% प्रति वर्ष है। लोन की पूरी अवधि के लिए अर्ध-वार्षिक रूप से देय।

पॉलिसी के तहत देय पेंशन राशि से लोन ब्याज की वसूली की जाएगी। पॉलिसी के तहत पेंशन भुगतान की आवृत्ति के अनुसार लोन ब्याज अर्जित होगा और यह पेंशन की नियत तारीख को देय होगा। तथापि, बकाया लोन की वसूली दावा राशि से निकासी के समय की जाएगी।

सरकारी योजनाओं से लाखों रुपये की टैक्स सेविंग, जानिए पूरी जानकारी >>> News Insurance Tax

Read more info : UP Kisan Karj Rahat List 2022:

Leave a Comment