Khasra Khatauni Nakal यूपी भूलेख 2022 | यूपी भूलेख

यूपी भूलेख 2022 | यूपी भूलेख ऑनलाइन | upbhulekh.gov.in | खसरा खतौनी नकल UP Bhulekh 2022 | UP Bhulekh Online upbhulekh.gov.in | Khasra Khatauni Nakal

Table of Contents

Introduction of Khasra Khatauni Nakal

Khasra Khatauni Nakal :- जैसा कि आप सभी जानते हैं कि डिजिटल इंडिया अभियान के तहत प्राधिकरण सभी प्रकार की सेवाओं और योजनाओं के लिए आवेदन करने के लिए ऑनलाइन सुविधा प्रदान कर रहा है। इसी को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने भूमि का पूरा विवरण ऑनलाइन प्राप्त करने के लिए यूपी भूलेख नामक एक पेशेवर वेबसाइट भी शुरू की है।

Khasra Khatauni Nakal

इस वेबसाइट के माध्यम से राज्य के निवासी अपनी जमीन का पूरा छोटा प्रिंट प्राप्त कर सकते हैं। राज्य के सभी निवासियों को इस Khasra Khatauni Nakal सुविधा का लाभ मिल सकता है। इस लेख के माध्यम से आपको यूपी भूलेख ऑनलाइन पोर्टल से संबंधित सभी आवश्यक रिकॉर्ड प्रदान किए जाएंगे। इसके अलावा आप इस लेख के माध्यम से उत्तर प्रदेश भूलेख Khasra Khatauni Nakal पोर्टल के उद्देश्य, लाभ, सुविधाएँ, पात्रता, आवश्यक दस्तावेज आदि से संबंधित डेटा भी प्राप्त कर सकते हैं।

यूपी भूलेख Khasra Khatauni Nakal


भूमि से संबंधित संपूर्ण महत्वपूर्ण बिंदुओं को प्राप्त करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से Khasra Khatauni Nakal यूपी भूलेख पोर्टल लॉन्च किया गया है। इस पोर्टल के माध्यम से उत्तर प्रदेश के सभी नागरिक अपनी जमीन से जुड़े पूरे छोटे प्रिंट प्राप्त कर सकते हैं। अब राज्य के निवासी अपनी जमीन का ब्योरा लेने के लिए किसी भी सरकारी कार्यस्थल पर नहीं जाना चाहते हैं।

वे घर बैठे विश्वसनीय वेबसाइट के माध्यम से अपनी जमीन से संबंधित पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इससे समय और नकदी दोनों की बचत होगी और व्यवस्था में पारदर्शिता सुनिश्चित होगी। इस पोर्टल के माध्यम से उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से Khasra Khatauni Nakal भूमि का पूरा रिकॉर्ड कम्प्यूटरीकृत किया जाएगा। इस पोर्टल के माध्यम से भूमि संग्रह के दैनिक कार्यों की व्यवस्था की जा सकती है।

इसके अलावा नागरिक अधिकार भी इस पोर्टल के माध्यम से जमा करा सकते हैं। राज्य के नागरिक भी इस पोर्टल के माध्यम से भूमि की जमाबंदी, Khasra Khatauni Nakal भूमि मानचित्र आदि से संबंधित जानकारी प्राप्त करने में सक्षम होंगे। यह पोर्टल 2 मई 2016 से संचालित किया जा रहा है।

यूपी भुलेख- upbhulekh.gov.in 2022 Khasra Khatauni Nakal

इस पोर्टल के माध्यम से आप अपनी जमीन का पूरा छोटा सा प्रिंट देख सकते हैं और पूर्ण स्वामित्व अधिकार प्रकाशित कर सकते हैं क्योंकि इसमें आपकी जमीन से जुड़े सभी डेटा वास्तव में सही दिए गए हैं। इस उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल की सुविधा से पहले, राज्य के लोगों को अपनी जमीन की जमाबंदी, Khasra Khatauni Nakal, जमीन का नक्शा और अन्य सभी जानकारी लेने के लिए परवरखाना जाना पड़ता था और कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था लेकिन अब राज्य के लोग कर सकते हैं यूपी भूलेख पोर्टल पर घर बैठे नेट के जरिए आसानी से ऑनलाइन देख सकते हैं।

हाइलाइट्स में यूपी भूलेख

पोर्टल का नाम यूपी भूलेख भूमि अभिलेख, Khasra Khatauni Nakal
शुभारंभ किसने कियाउत्तर प्रदेश सरकार
लाभार्थी उत्तर प्रदेश के नागरिक
उद्देश्य सभी भूमि संबंधी डेटा को ऑनलाइन उपलब्ध कराना।
आधिकारिक वेबसाइट http://upbhulekh.gov.in/

भूमि अभिलेखों का कम्प्यूटरीकरण 2 मई 2016

उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से Khasra Khatauni Nakal यूपी वसंत अभियान शुरू किया जा रहा है। इस अभियान के तहत Khasra Khatauni Nakal में विवादित उत्तराधिकार दर्ज किया जाएगा। यह अभियान 15 दिसंबर 2020 से 15 फरवरी 2021 तक चलाया जाएगा। यूपी वर्षा अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए सरकार की ओर से एक हेल्पलाइन वाइड वैरायटी और ई-मेल आइडेंटिटी भी जारी की गई है। इस अभियान के पूरा होने के बाद शासन द्वारा जिलों में टीमें भेजी जाएंगी, जिसके माध्यम से यह सुनिश्चित किया जाएगा कि Khasra Khatauni Nakal में पंजीकरण के कारण निर्विवाद उत्तराधिकार का कोई मामला न हो.

यूपी वरसैट अभियान हेल्पलाइन नंबर

इसके लिए सरकार की ओर से एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है। जो कि 0522-2620477 है। आप इस हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। आप इसके अलावा सीएम हेल्पलाइन जो कि 1076 है पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपनी सभी शिकायतें ईमेल के जरिए दर्ज कर सकते हैं। ईमेल आईडी [email protected] है।

Read more – UP Marriage Online Registration 2022:

यूपी वरसैट अभियान कार्यक्रम

राजस्व /तहसील अधिकारियों के माध्यम से विरासत के लिए आवेदन लेने और इसे ऑनलाइन करने की प्रक्रिया 15 दिसंबर 2020 से 30 दिसंबर 2020
लेखाकारों की सहायता से ऑनलाइन सत्यापन प्रक्रिया 31 दिसंबर 2020 से 15 जनवरी 2021
राजस्व निरीक्षक का उपयोग कर जांच आदेश पारित करने की प्रक्रिया 16 जनवरी 2021 से 31 जनवरी 2021
यह सुनिश्चित करना कि उत्तराधिकार विवाद का कोई भी मामला उत्तर प्रदेश में 1 फरवरी 2021 से 7 फरवरी 2021 तक दर्ज न हो
जिला अधिकारियों एवं अन्य अधिकारियों के माध्यम से अविवादित उत्तराधिकार के सभी लंबित प्रकरणों का निराकरण। 8 फरवरी 2021 से 15 फरवरी 2021

भूमि अभिलेखों का कम्प्यूटरीकरण

सरकार के सहयोग से डिजिटाइजेशन की प्रक्रिया चल रही है। इसी को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने Khasra Khatauni Nakal यूपी भूलेख पोर्टल की शुरुआत की थी। इस पोर्टल के नीचे सभी यूपी भूलेख का कम्प्यूटरीकरण पूरा किया जाता था। यूपी भूलेख पोर्टल 2 मई 2016 को लॉन्च हुआ करता था। जिसे उत्तर प्रदेश की सभी तहसीलों में लागू कर दिया गया है।

उत्तर प्रदेश की सभी तहसीलों की भूमि की जानकारी का अभिलेख यूपी भूलेख पोर्टल पर उपलब्ध है। इस पोर्टल के माध्यम से प्रतिदिन भूमि संग्रह करने की चीजों की व्यवस्था की जा सकती है। इस पोर्टल पर भूमि की जानकारी, भूमि अभिलेखों के स्वामी का डाटा, भूमि की जानकारी के अभिलेख आदि देखे जा सकते हैं। इस पोर्टल के जरिए पारदर्शिता भी आएगी सिस्टम में और हर बार और नकदी की बचत होगी।

यूपी भूलेख पोर्टल का उद्देश्य

यह कम्प्यूटरीकृत मशीन बहुत ही व्यवस्थित और स्पष्ट है क्योंकि पिछली डिवाइस के विपरीत उत्तर प्रदेश के मनुष्यों को बहुत लाभ होगा। अब इंसान कई इंटरनेट के जरिए Khasra Khatauni Nakal यूपी भूलेख पोर्टल पर अपनी जमीन के दस्तावेज को पहचान सकता है। राज्य सरकार द्वारा इस पोर्टल को शुरू करने का मकसद यह है कि यूपी के नागरिकों को अपनी जमीन के महत्वपूर्ण बिंदु आसानी से मिल सकें और इंसान कहीं नहीं जाना चाहेगा।

उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल के लाभ- यूपी भूलेख

उत्तर प्रदेश की इस Khasra Khatauni Nakal योजना के तहत देश के मनुष्य अपनी खसरा किस्म और जमाबंदी रेंज में आकर अपनी जमीन का नक्शा प्राप्त कर सकते हैं।
देश की जनता आसानी से घर बैठे अपनी जमीन का पूरा विवरण ऑनलाइन देख सकती है।
इस ऑनलाइन भूलेख पोर्टल के शुरू होने से यूपी के लोगों का समय भी बचेगा।
इस उत्तर प्रदेश भूलेख के बारे में आंकड़े लेने के लिए लोगों को पटवारखाना जाने की जरूरत नहीं होगी।

यूपी भूलेख घटक – यूपी भूलेख

जमाबंदी/फर्द-जमाबंदी/फर्ड में सबसे प्रमुख भूमि दस्तावेज छोटे प्रिंट जैसे मालिक का नाम, किसान का नाम, खसरा संख्या, भूमि, क्षेत्र, फसल विवरण, पट्टा छोटे प्रिंट इत्यादि शामिल हैं।
खसरा नंबर- खसरा नंबर एक प्रकार का विशेष प्लॉट नंबर या सर्वे नंबर होता है जो राज्य सरकार के माध्यम से कृषि भूमि को दिया जाता है।
खाता/खेवत संख्या- खाता या खेवट किस्म एक प्रकार की किस्म है जो उन मालिकों के समूह को दी जाती है जिनके पास अलग-अलग खसरा संख्याओं की भूमि का एक भाग होता है।
Khasra Khatauni Nakal संख्या- खतौनी संख्या एक प्रकार की किस्म है जो विशिष्ट खसरा संख्याओं की भूमि के एक चरण की खेती करने वाली किस्मों के समूह को सौंपी जाती है।

यूपी भूलेख जमाबंदी कॉपी, खसरा खतौनी – यूपी भूलेख 2022 कैसे देखें

इच्छुक लाभार्थी जो अपनी भूमि से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो उन्हें नीचे दिए गए चरणों का पालन करना होगा।

  • सबसे पहले लाभार्थी को यूपी भूलेख की प्रतिष्ठित इंटरनेट साइट पर जाना होगा,
  • वैध वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने ऑनलाइन सेवाओं की एक सूची खुल जाएगी।
  • यूपी भूलेख
  • यदि आप Khasra Khatauni Nakal का प्रजनन देखना पसंद करते हैं, तो आप Khasra Khatauni Nakal कॉपी करने के
  • विकल्प पर क्लिक कर सकते हैं। इस विकल्प पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला वेब पेज खुल जाएगा।
  • इस पेज पर आपको कैप्चा कोड भरने के लिए कहा जाएगा जो आपको नीचे दिखाई दे रहा है, इस कैप्चा कोड को भरें और
  • फिर पब्लिश बटन पर क्लिक करें।
  • उत्तर प्रदेश भूलेख
  • फिर आपके सामने एक नया वेब पेज खुलेगा, इस पेज पर आपको अपना जिला, तहसील, गांव, Khasra Khatauni Nakal
  • किस्म का चयन या चयन करना होगा या विस्तृत विविधता या किराए की जानकारी का सर्वेक्षण करना होगा।
  • उत्तर प्रदेश Khasra Khatauni Nakal
  • सबसे पहले अपना जिला चुनें फिर तहसील चुनें फिर गांव चुनें। चुनने के बाद आपको अपनी जमीन की जानकारी देनी होगी।
  • आप इसे नीचे दिए गए किसी भी विकल्प में से आसानी से चुन सकते हैं, जैसे अपने खसरा/गाटा नंबर से सर्च करना, अकाउंट
  • नंबर से सर्च करना, अकाउंट आईडी की मदद से सर्च करना या नाम से सर्च करना।
  • यूपी भूलेख
  • उसके बाद शानदार टैब चुनें और फिर आवश्यक विवरण दर्ज करें।
  • इसके बाद बॉक्स पर क्लिक करें। सारी जानकारी भरने के बाद आपको कंप्यूटर स्क्रीन पर भूलेख का सारा डेटा दिखाई देने लगेगा।

उत्तर प्रदेश की भूमि 2022 का नक्शा ऑनलाइन कैसे देखें?—

  • सबसे पहले सॉफ्टवेयर को यूपी भु नक्ष की वैध वेबसाइट पर जाना होगा।
  • विश्वसनीय वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने घरेलू वेब पेज खुल जाएगा।
  • इस होम पेज पर आपको अपने जिले, तहसील, गांव आदि का चयन करना होगा।
  • अब आपको चुने हुए क्षेत्र का नक्शा दिखाई देगा।
  • अब आप चिंतित खाताधारक का नाम देखने के लिए अपने स्ट्रक्चर नंबर पर क्लिक कर सकते हैं।
  • ऐसा करने के बाद, आपको खाता संख्या दिखाई देगी, अब उस खाताधारक का नाम चुनें जिसे आप देखना चाहते हैं।
  • आप इसके अलावा लैंड मैप का प्रिंट आउट भी ले सकते हैं।

पोर्टल में लॉगिन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की वैध वेबसाइट पर जाएं।
  • अब आपके सामने डोमेस्टिक वेब पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको लॉग इन ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • पोर्टल पर लॉगिन करें
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलेगा जिसमें आपके सामने निम्न विकल्प खुलेंगे।
  • राजस्व प्रशासक का बोर्ड लॉगिन
  • बोर्ड ऑफ इनकम फाइल लॉगइन
  • तहसील उत्परिवर्तन लॉगिन
  • जिला प्रशासनिक लॉगिन
  • तहसील प्रशासक लॉगिन
  • तहसील रिपोर्ट लॉगिन
  • खा. पु -3 प्रिंट लॉगिन
  • आपको अपनी आवश्यकता के अनुसार विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको अपना यूजरनेम, पासवर्ड और कैप्चा कोड डालना होगा।
  • अब आपको लॉगिन बटन पर क्लिक करना है।
  • इस तरह आप पोर्टल में लॉग इन करने की स्थिति में होंगे।
  • भूमि मानचित्र डाउनलोड प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको भु नक्ष उत्तर प्रदेश की सम्मानित इंटरनेट साइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने डोमेस्टिक वेब पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको अपने जिले का चयन करना है।
  • इसके बाद आपको अपनी तहसील का चुनाव करना है।
  • अब आपको अपने गांव का चयन करना है।
  • अब आपको मैप में अपने खेत/भूखंड की खसरा मात्रा पर क्लिक करना है। जैसे ही आप खसरा नंबर पर क्लिक करेंगे तो आपके लैपटॉप की स्क्रीन पर जमीन का नक्शा दिखने लगेगा।
  • आप इस मैप को डाउन लोड और प्रिंट भी कर सकते हैं।
  • आय संहिता को समझने का तरीका गांव खतौनी
  • सबसे पहले आपको राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश की कानूनी वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलेगा।
  • डोमेस्टिक पेज पर आपको रेवेन्यू विलेज Khasra Khatauni Nakalके कोड पर जाने के लिए हाइपरलिंक पर क्लिक करना होगा।
  • उत्तर प्रदेश भूलेख
  • इसके बाद आपको अपना जिला, तहसील और गांव चुनना होगा।
  • सेलेक्ट करते ही आपके सामने रेवेन्यू ग्राम Khasra Khatauni Nakal का कोड आ जाएगा।

Read also – Ganna Parchi Calendar Online

राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की कानूनी वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • डोमेस्टिक पेज पर आपको रेवेन्यू विलेज पब्लिक प्रॉपर्टी के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति
  • इसके बाद आपके सामने एक नया वेब पेज खुलेगा जिसमें आपको अपना जिला चुनना होगा।
  • अब आपको अपनी तहसील चुननी है।
  • इसके बाद आपको अपने गांव का चयन करना है।
  • अब आपको अपना खसरा/गाटा नंबर डालना है।
  • इसके बाद आपको सर्च ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • लागू तथ्य आपके पीसी स्क्रीन पर होंगे।
  • राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर देखने की प्रक्रिया
  • सबसे पहले आपको राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • डोमेस्टिक पेज पर आपको रेवेन्यू विलेज पब्लिक प्रॉपर्टी रजिस्टर के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर
  • जैसे ही आप इस ऑप्शन पर क्लिक करेंगे आपके सामने एक नया पेज खुलेगा।
  • इस पेज पर आपको अपने जिले का चयन करना है।
  • इसके बाद आपको अपने जिले के सामने दिए गए नंबर पर क्लिक करना होगा।
  • लागू आंकड़े आपके लैपटॉप स्क्रीन पर होंगे।

प्लॉट/गेट के यूनिक कोड को पहचानने की प्रक्रिया

सबसे पहले आपको राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
अब आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
होम पेज पर आपको प्लॉट/गेट इज यूनिकोड पर जाने के लिए लिंक पर क्लिक करना होगा
प्लॉट/गेट का यूनिक कोड
इसके बाद आपको अपने जिले, तहसील और गांव को चुनना होगा।
जैसे ही आप चुनते हैं, आपके पास प्लॉट/गेट के लिए एक विशेष कोड होगा।

प्लॉट/गेट मुकदमेबाजी की प्रतिष्ठा को पहचानने की प्रक्रिया

सबसे पहले आपको राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश की प्रतिष्ठित वेबसाइट पर जाना होगा।
अब आपके सामने डोमेस्टिक वेब पेज खुल जाएगा।
होम पेज पर आपको प्लॉट/गेट केस की स्थिति के लिए लिंक पर क्लिक करना होगा
विवादी
इसके बाद आपको अपने जिले, तहसील और गांव का चयन करना होगा।
जैसे ही आप चयन करते हैं, आपको प्लॉट/गेट मिलने की स्थिति का सामना करना पड़ेगा।

प्लाट/द्वार की बिक्री की ख्याति जानने की प्रक्रिया

सबसे पहले आपको राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश की आधिकारिक इंटरनेट साइट पर जाना होगा।
अब आपके सामने होम पेज खुलेगा।
घरेलू पृष्ठ पर, आपको प्लॉट की बिक्री प्रतिष्ठा पर एक नज़र डालने के लिए हाइपरलिंक पर क्लिक करना होगा
प्लॉट/गेट की बिक्री की स्थिति
इसके बाद आपको अपने जिले, तहसील और गांव का चयन करना होगा।
जैसे ही आप चयन करेंगे, आपके पास प्लाट/गेट की बिक्री की ख्याति आ जाएगी।

खतौनी शेयर निर्धारण के पुनरुत्पादन को देखने की प्रक्रिया

सबसे पहले आपको राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की प्रतिष्ठित वेबसाइट पर जाना होगा।
अब आपके सामने होमपेज खुल जाएगा।
होम पेज पर, आपको Khasra Khatauni Nakal शेयर निर्धारण के पुनरुत्पादन को देखने के लिए हाइपरलिंक पर क्लिक करना होगा।
खतौनी शेयर निर्धारण की प्रति
अब आपके सामने एक नया वेब पेज खुलेगा जिसमें आपको अपना जिला चुनना होगा।
इसके बाद आपको अपनी तहसील का चयन करना है।
अब आपको अपने गांव को चुनना है।
इसके बाद आपके सामने एक नया वेब पेज खुलेगा जिसमें आपको अपना खसरा/गाटा नंबर डालना होगा।
इसके बाद आपको सर्च बटन पर क्लिक करना है।

अक्षम संपत्ति देखने की प्रक्रिया

सबसे पहले आपको राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की प्रामाणिक इंटरनेट साइट पर जाना होगा।
अब आपके सामने होम पेज खुलेगा।
डोमेस्टिक पेज पर आपको निष्क्रांत प्रॉपर्टी के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
खाली संपत्ति
इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलेगा जिसमें आपको अपने जिले का चयन करना होगा।
अब आपको अपनी तहसील चुननी है।
जैसे ही आप चयन करेंगे आपकी तहसील से संबंधित रिकॉर्ड आपके पीसी स्क्रीन पर होंगे।

शत्रु संपत्ति देखने की प्रक्रिया

सबसे पहले आपको राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की पेशेवर वेबसाइट पर जाना होगा।
अब आपके सामने डोमेस्टिक वेब पेज खुल जाएगा।
इसके बाद आपको शत्रु संपत्ति के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
शत्रु संपत्ति
अब आपके सामने एक नया पेज खुलेगा जिसमें आपको अपने जिले का चयन करना होगा।
अब आपको अपनी तहसील चुननी है।
लागू डेटा आपके पीसी स्क्रीन पर होगा।
राष्ट्र कार्यालय जाने की प्रक्रिया
सबसे पहले आपको राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की पेशेवर वेबसाइट पर जाना होगा।
अब आपके सामने होम पेज खुलेगा।
पर होम पेज पर आपको सरकारी संस्थान के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
राजनीतिक कार्यालय
अब आपके सामने एक नया पेज खुलेगा जिसमें आपको अपने जिले और तहसील का चयन करना होगा।
जैसे ही आप अपने जिले और तहसील का चयन करेंगे, संबंधित जानकारी आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर आ जाएगी।

तहसीलों की सूची देखने की प्रक्रिया

सबसे पहले आपको राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की प्रतिष्ठित वेबसाइट पर जाना होगा।
अब आपके सामने डोमेस्टिक पेज खुलेगा।
होम पेज पर आपको तहसील के विकल्प पर क्लिक करना है।
यूपी भूलेख
जैसे ही आप इस विकल्प पर क्लिक करेंगे आपके सामने एक नया वेब पेज खुल जाएगा।
इस पेज पर सभी तहसीलों की सूची उपलब्ध होगी।

परगना की सूची देखने की प्रक्रिया

सबसे पहले आपको राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश की विश्वसनीय वेबसाइट पर जाना होगा।
अब आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
इसके बाद आपको परगना के विकल्प पर क्लिक करना है।
यूपी भूलेख
जैसे ही आप इस चॉइस पर क्लिक करेंगे आपके सामने एक लिस्ट खुल जाएगी।
सूची में सभी परगने से संबंधित जानकारी उपलब्ध होगी।
उत्तर प्रदेश भूलेख मोबाइल ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया
सबसे पहले आपको अपने मोबाइल में google play store को ओपन करना है।
अब आपको सर्च बॉक्स में UP Bhulekh डालना है।
इसके बाद आपको सर्च बटन पर क्लिक करना है।
अब आपके सामने एक लिस्ट खुलेगी।
आपको लिस्ट में सबसे ऊपर वाले ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
अब आपको डिप्लॉय बटन पर क्लिक करना है।
आपके मोबाइल फोन में यूपी भूलेख मोबाइल ऐप डाउनलोड हो जाएगा।
यूपी भूलेख जिलों की सूची
आप यूपी भूलेख पोर्टल से निम्न जिलों से संबंधित भूमि डेटा देख सकते हैं।

Khasra Khatauni Nakal

  • आगरा झांसी
  • अलीगढ़ कन्नौजी
  • अम्बेडकर नगर कानपुर देहात
  • अमेठी कानपुर नगर
  • अमरोहा कासगंज
  • औरैया कौशाम्बिक
  • अयोध्या खेरी
  • आजमगढ़ कुशीनगर
  • बागपत ललितपुर
  • बहराइच लखनऊ
  • बलिया महोबा
  • बलरामपुर महाराजगंज
  • मणिपुर को बांधने के लिए
  • बाराबंकी मथुरा
  • बरेली शीतल
  • कॉलोनी मेरठ
  • बिजनौर मिर्जापुर
  • बदायूं मुरादाबाद
  • बुलंदशहर मुजफ्फरनगर
  • चंदौली पीलीभीत
  • चित्रकूट प्रतापगढ़
  • देवरिया प्रयागराज
  • एटा रायबरेली
  • इटावा रामपुर
  • फर्रुखाबाद सहारनपुर
  • फतेहपुर सावधान
  • फिरोजाबाद संत कबीर नगर
  • गौतम बुद्ध नगर संत रविदास नगर
  • गाजियाबाद शाहजहांपुर
  • गाजीपुर शामली
  • गोंडा श्रावस्ती
  • गोरखपुर सिद्धार्थनगर
  • हमीरपुर सीतापुर
  • हापुड़ सोनभद्र
  • हरदोई सुल्तानपुरी
  • हाथरस उन्नाव
  • जला दो वाराणसी
  • जौनपुर
  • कुछ महत्वपूर्ण लिंक
  • जिलों की सूची यहां क्लिक करें
  • तहसीलों की सूची यहां क्लिक करें
  • परगना की सूची यहां क्लिक करें
  • राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर यहाँ क्लिक करे

उत्तर प्रदेश – भूमि प्रकार सूची – भूमि का प्रकार

  • भूमि का प्रकार भूमि का प्रकार विवरण भूमि का प्रकार कोड (जीएटीए यूनिक कोड के 15-16 अंक)
  • 1 ऐसी भूमि, जिसमें अधिकारी या ग्राम परिषद या अन्य स्थानीय प्राधिकरण, जो 1950 ई. स्पष्टीकरण अधिनियम की धारा 117-ए के तहत भूमि का प्रबंधन सौंपा गया है, खेती करता है। 1 1
  • 1-एक भूमि जो हस्तांतरणीय भूमिधरों के कब्जे में है। 12
  • 1ए (ए) खाली 13
  • 1-ख ऐसी भूमि जो शासकीय अनुदान अधिनियम के अन्तर्गत व्यक्तियों के पास हो। 14
  • 2 भूमि जो अहस्तांतरणीय भूमिधारकों के कब्जे में है। 21
  • 3 वह भूमि जो असमियों के कब्जे या कब्जे में हो। 31
  • 4 भूमि जो किसी भी आय को छोड़कर कब्जाधारियों के कब्जे में है यदि किसी व्यक्ति का नाम पहले से खसरा के कॉलम चार में दर्ज नहीं है। 41
  • 4-अ उत्तर प्रदेश में सर्वाधिक जोत की सीमा के अंतर्गत अधिग्रहित अतिरिक्त भूमि। 42
  • 4-ए (बी) अन्य भूमि। 43
  • 5-1 खेती योग्य भूमि – नई परती 51
  • 5-2 खेती योग्य भूमि – पुरानी फली (पार्टिकाडिम) 52

Or

  • 5-3-ए कृषि बंजर – इमारती इमारती लकड़ी कावाँ। 53
  • 5-3-बी कृषि बंजर – वन जिनमें विभिन्न प्रकार के पेड़, झाड़ियाँ, झाड़ियाँ आदि शामिल हैं। 54
  • 5-3-सी खेती योग्य बंजर – स्थायी खेत जानवरों की भूमि और विभिन्न चराई भूमि। 55
  • 5-3-डी खेती योग्य बंजर – घास और बांस की कोशिकाओं को ढकने के लिए छप्पर। 56
  • 5-3-ङ अन्य कृषि योग्य बंजर भूमि। 57
  • ए (ए) वन भूमि जिस पर और अन्य सामान्य वनवासी (वन अधिकारों की मान्यता) अधिनियम। वन अधिकार 2006 से नीचे दिए गए हैं – कृषि के लिए 58
  • 5-ए (बी) वन भूमि जिस पर और अन्य नियमित वनवासी (वन अधिकारों की मान्यता) अधिनियम। 2006 के तहत वन अधिकार दिए गए हैं – जनसंख्या 59 . के लिए
  • 5-ए (सी) वन भूमि जिस पर और विभिन्न नियमित वनवासी (वन अधिकारों की मान्यता) अधिनियम। 2006 के तहत वन अधिकार दिए गए हैं – पड़ोस के जंगली क्षेत्र के अधिकार 60
  • 6-1 गैर-कृषि भूमि – जलमग्न भूमि। 61
  • 6-2 गैर-कृषि भूमि – भूमि, सड़क, रेलवे, निर्माण और ऐसी विभिन्न भूमि जो गैर-कृषि उपयोग के लिए उपयोग की जाती हैं। 62
  • 6-3 कब्रिस्तान और श्मशान (मार्जघाट), खाताधारकों की भूमि या आबादी वाले क्षेत्र में स्थित कब्रिस्तान और श्मशान को छोड़कर। 63
  • 6-4 जो अन्य कारणों से नाजायज है। 64
  • 7 वह भूमि जो असमियों के कब्जे या कब्जे में हो। 71
  • 9 भूमि के ऐसे अधिभोगी, जिन्होंने खसरे के स्तंभ चार में निर्दिष्ट चरित्र की सहमति के अलावा भूमि पर कब्जा कर लिया है। 91

शिकायत आर पंजीकरण प्रक्रिया–

सबसे पहले आपको यूपी भूलेख की सम्मानित इंटरनेट साइट पर जाना होगा।
अब आपके सामने होम पेज खुलेगा।
घरेलू वेब पेज पर आपको शिकायत पंजीकरण के लिए हाइपरलिंक पर क्लिक करना होगा।
शिकायत पंजीकरण
इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलेगा जिसमें आपको पूछी गई जानकारी दर्ज करनी होगी।
अब आपको पुट अप बटन पर क्लिक करना है।
इस तरह आप शिकायत दर्ज करने की स्थिति में होंगे।

इसे भी पड़े – बड़ी खबर! फ्री राशन कार्ड सरेंडर करना है

शिकायत की स्थिति को समझने की प्रक्रिया

सबसे पहले आपको यूपी भूलेख की प्रतिष्ठित इंटरनेट साइट पर जाना होगा।
अब आपके सामने डोमेस्टिक पेज खुलेगा।
होम पेज पर, आपको शिकायत की प्रतिष्ठा का परीक्षण करने के लिए लिंक पर क्लिक करना होगा।
शिकायत की स्थिति
इसके बाद आपके सामने एक नया वेब पेज खुलेगा जिसमें आपको रेफरेंस नंबर डालना होगा।
अब आपको सर्च बटन पर क्लिक करना है।
शिकायत की लोकप्रियता आपके लैपटॉप स्क्रीन पर प्रदर्शित होगी।

Leave a Comment